May 2017
 
 
 
 
 
Upaay (25-05-2014)
 

For  obstacles in important jobs :

 

 This is a sure shot remedy if  you are facing all round failure , on Tuesdays  and Saturdays light eight four sides Deepak with ghee, then chant 8 times Shree Sankat mochak Hanumanastak Patham and after each round offer one rose flower at lotus feet of Shree Hanuman.

 
 
Nuskhe
 

For  Leprosy  :

 

   Wash skin with Neem leaves boiled water and apply honey, for leuciderma take Vaividand, Trifla and Peepal each 25 gm and add ghee in 5 gm of this powder and give to the leprosy affected person, and also give honey, thrice daily.

 For gangareen give 25gm Neem leaves and goose berry and grind top powder give 10 gm of this powder to the patient and finally give 10 gm honey, wash the affected parts with Neem boiled water and apply honey.

 
Upaay (25-05-2014)
 

महत्वपूर्ण कार्य में बाधा निवारण के लिए

यदि महत्वपूर्ण कार्य में बाधा आ रही हो तो मंगलवार और शनिवार के दिन हनुमान जी के आगे चौमुखा घी के 8 दीपक जलाएं। वहीं बैठकर 8 पाठ संकटमोचन हनुमानष्टक का करें। प्रत्यक पाठ के बाद 1 गुलाब का पुष्प हनुमान जी के श्रीचरणों में अर्पित करें। ऐसा करने से संपूर्ण बाधाओं का निवारण हो जाएगा।

 

 
 
Nuskhe (25-05-2014)
 

कोढ़

        चर्म रोगों में कोढ़ को दुस्साध्य रोग माना गया है। इसके उपचार के लिए नीम उबालकर उसके पानी से त्वचा धोएं और कोढ़ के निशानों पर शहद का लेप करते रहें। श्वेत कोढ़ हो तो बायबिडंग, त्रिफला चूर्ण और पीपल बराबर पच्चीस-पच्चीस ग्राम मात्रा में पीस-छान कर शीशी में भर लें। पांच-पांच ग्राम में पांच-पांच बूंदें घृत मिलाकर कोढ़ ग्रसित व्यक्ति£ को निगलने के लिए दे दें और ऊ£पर से शहद चटा दें। इसे दिन में तीन बार सेवन कराएं। घी चार पांच बूंद से ज्यादा न मिलाएं। शहद दस-पंद्रह ग्राम तक देते रहें। इससे कोढ़ ठीक हो जाता है।

        गलित कोढ़ के उपचार हेतु पच्चीस-पच्चीस ग्राम नीम के पत्ते और आंवले कूट-पीसकर छान लें। दस ग्राम की फं£की देकर दस ग्राम शहद रोगी को चटा दीजिए। इस तरह नीम की कड़वाहट भी मुंह का स्वाद नहीं बिगाड़ेगी। यह इलाज लगातार करना पड़ेगा। गले हुए अंगो को नीम के पानी से धोकर उन पर शहद का लेप भी करते रहें। गलित कुष्ठ ठीक हो जायेगा।

Last updated on 25-05-2017
Home :: Lord Shani :: Shani Sadhe Satti Dhaiya :: Shree Shanidham Trust :: Rashiphal :: Our Literature
Pragya (E-paper) :: Photo - Gallery :: Video Gallery :: Janam Patri :: Pooja Material :: Contact Us
News :: Disclaimer :: Terms & Condition :: Products
Visitors
© Copyright 2012 Shree Shanidham Trust, All rights reserved. Designed and Maintained by C. G. Technosoft Pvt. Ltd.